Motiyabind Treatment Without Operation In Hindi

मोतियाबिंद एक Common प्रॉब्लम है और काफी लोग काला मोतियाबिंद का इलाज (kala motiyabind ka ilaj) बिना ऑपरेशन (motiyabind treatment without operation in hindi) के करना चाहते हैं.


यहाँ मै कुछ ऐसे ही आयुर्वेद (Ayutrveda) में बताये हुए मोतियाबिंद के उपचार बताने जा रहा हूँ. आज मैं मोतियबिंद या cataract के guaranteed उपाय  बताउंगा

Motiyabind treatment without operation in Hindi
Motiyabind treatment without operation in Hindi



ये भी पढ़ें: माइग्रेन/आधा सिर दर्द का आयुर्वेदिक इलाज



मोतियाबिंद का घरेलु उपाय /motiyabind treatment in hindi/ motiyabind ke gharelu upay

1. प्याज का रस (Onion Juice), यहाँ में सफ़ेद प्याज़ की बात कर रहा हूँ , 10 ग्राम
असली शहद (Real honey) 10 ग्राम
भीमसेनी कपूर (Bhimseni Camphor) 2 ग्राम

Bhimseni Kapur
Bhimseni Kapur

इन तीनो को खूब अच्छी तरह से मिला कर घोंट (mesh) कर रख लें।  ध्यान रहे , कांच\की शीशी (bottle) में ही भरें


रोज़ रात को सोते समय ये solution आँखों में काजल (Kohl) की तरह लगा लें।  ध्यान रहे कि इसे लगाने से जलन होगी पर मोतियाबिंद में ये उपाय शत प्रतिशत (100% percent) लाभ करता है।


भीमसेनी कपूर मिलना मुश्किल हो तो सिर्फ सफ़ेद प्याज़ और शहद को मिला कर दवा बना लें


2. शहद को आयुर्वेदा में मोतियाबिंद (motiyabind treatment in ayurveda) का बहोत असरकारी उपचार बताया गया है। शहद मोतियाबिंद में रामबाण औषधि (medicine) है।  अगर मोतियाबिंद (cataract )बस शुरू ही हुआ हो तो सिर्फ शहद लगाने से ही आप ठीक हो सकते हैं।  अगर किसी को मोतियाबिंद न भी हो तब भी शहद लगाने से आंखों की रौशनी (Eye sight) बढ़ती देखी गयी है.

Shahad
Shahad



3. रात के भीगे हुए बादाम काली मिर्च के साथ खाने से भी आँखों और दिमाग को लाभ मिलता है।  ऊपर से थोड़ी सी मिश्री और दूध भी पी लें तो मज़ा ही आ जायेगा।

ये भी पढ़ें: प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए की बेबी गोरा हो 


जब तक मोतियाबिंद ठीक न हो तब तक इन चीज़ो से दूर रहेँ
चीनी , आलू , चाय , कॉफ़ी , शराब , भारी और चिकनाई युक्त भोजन


ये खूब खाएं
हरी सब्जियां , दूध, पनीर, घी , बादाम , नीम की पत्तियां , गाजर , सोंफ मिश्री


ध्यान रहे: रोज़ आँखों में पानी के छीटें मारने (Splatter) की आदत डाल लें तो मोतियाबिंद कभी न होगा. अगर इस पानी में त्रिफला पवडर (triphala powder) मिला कर रात भर रख लें और सुबह छींटे मारें तो आँखों का कोई भी रोग नहीं हो सकता।  


दोस्तों, ये उपाय ज़रूर try करें और comment में बताये कि आपका experience कैसा रहा.


Incoming Search Terms


motiyabind treatment without operation in hindi
motiyabind treatment in hindi
motiyabind treatment in ayurveda
kala motiyabind ka ilaj
motiyabind ke gharelu upay
motiyabind ka operation kaise hota hai

Load disqus comments

0 comments